unnamed-14

Bhopal Gas Victims claim historical victory due to their agitation in Delhi

November 20th, 2014

At a Press Conference today, five organizations of survivors of the December ’84 Union Carbide disaster in Bhopal claimed historic victory in their recent protest at New Delhi. They said that the Minister of Chemical & Fertilizers had agreed to both their demands on additional compensation for the disaster. The organizations said that they are hopeful of speedy implementation of the decisions taken at their meeting with the Minister and the bureaucrats.

“The Minister has promised full commitment to having scientific data as the basis for assessment of injury caused by Union Carbide. There is abundant evidence in medical research and hospital records to show that well over 90 % people suffered injuries that were neither minor nor temporary. They will now be entitled to Rs. 1 Lakh additional compensation that was denied to them earlier.” said Rashida Bee, of the Bhopal Gas Peedit Mahila Stationery Karmchari Sangh.

Five women survivors, Premlata, Vishnu Bai, Kasturi Bai, Shehazadi Bee, Kamla Bai and their supporter, Bhopal Group for Information & Action member, Rachna Dhingra who fasted for four days without water were also present at the press conference jointly addressed by the five organizations.

Continue reading

facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail
Singing together "We will continue to fight, we will not be scared"

Bhopal Survivors historical victory; Government to revise disaster related figures

Press Release

15 November 2014

Survivors of the Union Carbide disaster in Bhopal ended their protest at Jantar Mantar last evening after assurance by the Minister of Chemicals and Fertilizers of meeting their demands. Five women survivors and their supporter broke their water-less fast on the fourth day with sips of water offered by Joint Secretary AJV Prasad who came to the protest site.

Continue reading

facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail
Sign-CleanupBhopalNow.6x4

We need your support – Take action against DOW

On December 2nd/3rd, 2014 it will be the 30th anniversary of the world’s worst industrial disaster. Thirty years and survivors continue to struggle for their right to adequate healthcare (and medical research), economic and social rehabilitation, adequate compensation, a pollution-free environment and justice. The Indian courts have summoned The Dow Chemical Company to explain why its subsidiary, The Union Carbide Corporation, has failed to appear and face justice. Dow, too, continues to deny responsibility and refuses to appear. Let’s let Dow know that it is not above the law.

Tell Dow: “30 years without justice. Dow Chemical is not above the law. Clean up Bhopal NOW”

Tweet: @DowChemical
Facebook: The Dow Chemical Company
Telephone: 1-800-258-2439 (US and Canada)
E-mail: http://www.dow.com/company/contact/

facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail
walib

List of 30th Anniversary Events

*Check Back Often for Updates* 

These lists provide details for events planned by ICJB and their supporters, split up by geographic region. Also included are events related to the release of “Bhopal: A Prayer for Rain,” a feature film that focuses on the disaster. The film is being released in the US & India in November/December.

Continue reading

facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail
Women protesting happy

An Open Invitation to Visit Bhopal for the 30th Anniversary

Dear Supporters and Allies,

We invite you to Bhopal to participate in the 30th anniversary activities, to re-affirm our solidarity to each other, and to connect and reconnect with activists from around the world. Thirty years is a long time for a struggle to be sustained but thanks to your support, the fight for justice in Bhopal is very much alive today.

Continue reading

facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail
Sanjay Kumar and Martin Sheen

“Bhopal: A Prayer for Rain” Coming Soon to USA

Photo – ICJB activist Sanjay Verma met with Martin Sheen at a private screening of the film

“Bhopal: A Prayer for Rain,” a film based on the events leading to December 3rd, 1984, is being released in the USA on November 7th, 2014. It stars Martin Sheen as Union Carbide CEO Warren Anderson, Kal Penn as a Bhopal resident, Mischa Barton as a journalist, and others.

Continue reading

facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail
unnamed-14

पत्रकार वार्ता

20 नवम्बर 2014

दिसम्बर 84 के भोपाल में यूनियन कार्बाइड हादसे के पीड़ितों के पाँच संगठनों ने आज एक पत्रकार वार्ता में नई दिल्ली में उनके हाल के आंदोलन में ऐतिहासिक जीत हासिल करना का दावा किया। संगठनों ने कहा कि उन्हें यह उम्मीद है की केंद्रीय मंत्री और अधिकारियों के साथ हुई चर्चा के निर्णयों पर जल्द-से-जल्द कार्यवाही होगी।

“मंत्री जी ने कहा है कि वह यूनियन कार्बाइड द्वारा पहुँचाए गए नुकसान का आँकलन वैज्ञानिक आँकड़ों पर करने में प्रतिबद्ध है। चिकित्सीय शोध के आँकड़ों और अस्पतालों के रिकॉर्ड में इस बात के पर्याप्त सबूत हैं कि 90% से अधिक गैस पीड़ितों को पहुँचा नुकसान न तो मामूली है और न ही अस्थाई। इस तरह से उन गैस पीड़ितों को अब 1 लाख रूपए अतिरिक्त मुआवज़े की पात्रता होगी जिन्हें पहले इससे वंचित किया गया था”, कहती है भोपाल गैस पीड़ित महिला स्टेशनरी कर्मचारी संघ की रशीदा बी।

पाँच संगठनों द्वारा बुलाई गई पत्रकार वार्ता में पाँच गैस पीड़ित महिलाएँ प्रेमलता, विष्णु बाई, कस्तूरी बाई, शहज़ादी बी, कमला बाई और उनके समर्थक भोपाल ग्रुप फॉर इन्फार्मेशन एंड एक्शन की रचना ढींगरा जो 4 दिन तक निर्जला अनशन पर रहने वाले शामिल रहे।

भोपाल गैस पीड़ित निराश्रित पेंशनभोगी संघर्ष मोर्चा के बालकृष्ण नामदेव ने कहा, “हमें यह बताते हुए खुशी है

कि भोपाल गैस काण्ड के प्रभारी केंद्रीय मंत्री ने इस बात के लिए सहमति जताई है कि गैस काण्ड की वजह से हुई मौतों और शारीरिक नुकसान के आँकलन के लिए अब तक इस्तेमाल किए गए गलत आधार के बदले वैज्ञानिक शोध और अस्पतालों के रिकॉर्ड का उपयोग किया जाएगा। उन्होंने हमें विश्वास दिलाया है कि इसी आधार पर सुधार याचिका में बदलाव किए जाएँगे और इसकी त्वरित सुनवाई के लिए आवेदन सर्वोच्च न्यायालय में भी पेश किया जाएगा”।

भोपाल गैस पीड़ित महिला पुरुष संघर्ष मोर्चा के नवाब खां ने कहा कि हमें यह विश्वास दिलाया गया है कि केंद्रीय मंत्रालय शोध के आँकड़े एवं अस्पताल के रिकॉर्ड मँगाने के बारे में केंद्र तथा प्रदेश की एजेंसी से जल्द-से-जल्द पत्राचार करेगा।

“मंत्री जी ने हादसे की वजह से पहुँचे नुकसान के आँकलन के लिए दोषपूर्ण मेडिकल वर्गीकरण के आधार को ख़त्म कर दिया है और इसके लिए हम उन्हें धन्यवाद देते है। ऊटपटांग नतीजों वाला अवैज्ञानिक वर्गीकरण एक 27 साल पुरानी गलती है जिसकी वजह से गैस पीड़ितों को न्याय नहीं मिल पाया है”, कहती है डाव – कार्बाइड के खिलाफ बच्चों की संस्थापिका साफरीन ख़ान।

रचना ढींगरा कहती हैं, “हमें पूरा यकीन है कि जब सुधार याचिका में वैज्ञानिक आँकड़ों के आधार पर बदलाव किए जाएँगे तो यूनियन कार्बाइड और डाव केमिकल से ली जाने वाली मुआवज़े की रकम में भी ख़ास बढ़ोतरी होगी। इससे प्रत्येक गैस पीड़ित को कम्पनियों से 5 लाख से अधिक मुआवज़ा मिल सकेगा”

अनशनकारी महिलाएँ जो अभी निर्जला अनशन के असर से उबर रही हैं, ने कहा कि अगर ज़रूरत पड़े तो वह फिर से इस तरह अपना विरोध प्रकट करेंगी।

रशीदा बी

भोपाल गैस पीड़ित स्टेशनरी कर्मचारी संध

9425688215

बालकृष्ण नामदेव

भोपाल गैस पीड़ित निराश्रित पेंशनभोगी संघर्ष मोर्चा

9826345423

नवाब खां

भोपाल गैस पीड़ित महिला पुरुष संघर्ष मोर्चा

8718035409

 

रचना ढींगरा, सतीनाथ षडंगी

भोपाल ग्रुप फॉर इन्फार्मेशन एंड एक्शन

9826167369

साफरीन खां

डाव-कार्बाइड के खिलाफ बच्चे

facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

प्रेस विज्ञप्ति – 15 नवम्बर 2014

प्रेस विज्ञप्ति           15 नवम्बर 2014

भोपाल में यूनियन कार्बाइड हादसे के पीड़ितों ने रसायन एवं उर्वरक मंत्री के आश्वासन के बाद कल जंतर मंतर पर अपना आन्दोलन समाप्त किया | धरना स्थल पर पहुंचे सह सचिव ए.जे.वी प्रसाद के हाथ से पानी की घूँट पीकर, पाँच गैस पीड़ित महिलाओं और उनके समर्थक ने चौथे दिन अपना निर्जला अनशन तोड़ा |

Continue reading

facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail