36 वीं बरसी: संगठनों ने पीड़ितों की बिगड़ती स्वास्थ्य, स्थानीय मिट्टी और भूजल में जारी प्रदूषण के लिए डाव केमिकल कम्पनी और प्रदेश की सरकारों पर सही मुआवज़ा हासिल नहीं करने और पीड़ितों के अधिकारों के हनन का आरोप लगाया

प्रेस विज्ञप्ति
3 दिसम्बर 2020

भोपाल में यूनियन कार्बाइड हादसे की 36 वीं बरसी के उपलक्ष्य में आज पीड़ितों के चार संगठनों ने पीड़ितों की बिगड़ती स्वास्थ्य और स्थानीय मिट्टी और भूजल में जारी प्रदूषण के लिए अमरीका की डाव केमिकल कम्पनी का कानूनी ज़िम्मेदारी से भागने की तीब्र भर्तस्ना की | संगठनों ने केंद्र और प्रदेश की सरकारों पर अपराधी कम्पनी से सही मुआवज़ा हासिल नहीं करने और पीड़ितों के इलाज और पुनर्वास के अधिकारों के हनन का आरोप लगाया |

” सन 2005 में डाव केमिकल का भारत के बाज़ार में मात्र 2.5 % हिस्सा था, जबकि 2015 से इस कम्पनी का भारतीय बाज़ार में हिस्सा बढ़ता जा रहा है और फिलहाल यह आँकड़ा 22 % तक पहुँच गया है | यह तय है की इस विदेशी कम्पनी का हमारे प्रधानमन्त्री के साथ करीबी की वजह से ही ऐसा हो रहा है | इस बीच पिछले दिसम्बर से गैसकाण्ड की वजह से विधवा हुई पाँच हज़ार महिलाओं की एक हज़ार रूपए की मासिक पेन्शन प्रदेश सरकार के द्वारा बंद कर दिया गया है |” कहा भोपाल गैस पीड़ित महिला स्टेशनरी कर्मचारी संघ की अध्यक्षा रशीदा बी ने |

मध्य प्रदेश सरकार द्वारा कोरोना महामारी से मारे गए गैस पीड़ितों के झूठे आँकड़े पेश करने का आरोप लगाते हुए भोपाल ग्रुप फॉर इन्फॉर्मेशन एन्ड एक्शन की रचना धींगरा ने कहा, “हम सरकारी अधिकारियों को चुनौती देते हैं की वे ऐसा एक सबूत पेश करें कि पिछले 36 सालों में हमने कभी तथ्यात्मक और वैज्ञानिक आधार के बगैर कोई बात कही हो | यह वही पुराना सरकारी छल है, हादसे की वजह से हुई मौतों और पीड़ितों को हुई बीमारियों के बारे में सरकारी अधिकारी गैस काण्ड की सुबह से ही झूठ बोलते आ रहे हैं | मौतों का सरकारी आँकड़ा वास्तविक आँकड़े से पाँच गुना कम है और 90 % से अधिक गैस पीड़ितों के बारे में यह बताया जा रहा है की उन्हें सिर्फ एक बार अस्पताल जाना पड़ा |”

भोपाल गैस पीड़ित महिला पुरुष संघर्ष मोर्चा के अध्यक्ष नवाब खान ने कहा,”पिछले दस सालों में केंद्र तथा प्रदेश सरकारों के अधिकारियों ने हमें सर्वोच्च न्यायालय में अमरीकी कम्पनियों से अतिरिक्त मुआवज़ा के लिए लंबित सुधार याचिका में मौतों और बीमारियों के आँकड़े सुधारने का लिखित आश्वासन दिया है | पर इन आश्वासनों को कभी पूरा नहीं किया गया | दूसरी तरफ गैसकाण्ड के दूरगामी प्रभाव पर सरकारी चिकित्सीय शोध या तो बंद कर दिया गया है या दबा दिया गया है| गैसजनित पुरानी बीमारियों का इलाज आज भी लाक्षणिक दवाओं से हो रहा है, पीड़ितों के पुनर्वास का काम बंद पड़ा है और मिट्टी और भूजल की ज़हर सफाई के लिए कोई सरकारी योजना तक नहीं है |

“भोपाल के गैस पीड़ितों और दुनिया भर में औद्योगिक प्रदूषण से बीमार लोगों पर कोरोना महामारी के भयावह असर ने रसायन कम्पनियों पर कानूनी शिकंजा कसने की ज़रुरत को बड़े शिद्दत से रेखांकित किया है | पिछले 36 सालों में भारत और अमरीका की न्याय व्यवस्था यूनियन कार्बाइड और डाव केमिकल से क़ानून का पालन करवाने में नाकाम साबित हुई है | भोपाल में जारी अन्याय और बदहाली से कम्पनियों को मानवता और पर्यावरण के खिलाफ अपराध जारी रखने का प्रोत्साहन मिल रहा है |” कहा डाव कार्बाइड के खिलाफ बच्चे की नौशीन खान ने |

रशीदा बी.
भोपाल गैस पीड़ित स्टेशनरी कर्मचारी संघ
9425688215
नवाब खाँ
भोपालगैस पीड़ित महिला पुरुष संघर्ष मोर्चा
9165347881
रचना धींगरा,
भोपाल ग्रुप फॉर इन्फॉर्मेशन एंड एक्शन,
9826167369
नौशीन खान
डाव-कार्बाइड के खिलाफ बच्चे
7987353953

 

Facebooktwitteryoutubemail

Share this:

Facebooktwitterredditmail

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.