यूनियन कार्बाइड गैस काण्ड की 37 वीं बरसी पर भोपाल पीड़ितों की मांगे

1. इन्साफ

  • गैस काण्ड के हर पीड़ित को यूनियन कार्बाइड और डाव केमिकल कम्पनी से कम से कम 8 लाख रुपया मुआवज़ा दिलाया जाए |
  • गैस पीड़ितों के हर बच्चे के स्वास्थ्य को पहुँचे नुकसान के लिए यूनियन कार्बाइड और डाव केमिकल कम्पनी से कम से कम 2 लाख रुपया मुआवज़ा दिलाए |
  • ज़हरीले भूजल से पीड़ित हर रहवासी के स्वास्थ्य को पहुँचे नुकसान के लिए यूनियन कार्बाइड और डाव केमिकल कम्पनी से कम से कम 2 लाख रुपया मुआवज़ा दिलाए |
  • डाव केमिकल का इस देश में  कारोबार तब तक के लिए बन्द करें जब तक कि कम्पनी भोपाल जिला अदालत से जारी सम्मन का पालन करते हुए आपराधिक प्रकरण में पेश नहीं होती | गैस काण्ड पर जारी आपराधिक मामले में सी बी आई जल्द से जल्द यूनियन कार्बाइड कम्पनी के नुमाइन्दे जॉन मैक्डोनाल्ड को पेश करे |

2. इलाज और शोध

  • गैस पीड़ितों के लिए बने अस्पतालों में इलाज का सही तरीका अपनाया जाए ताकि दवाओं से आराम मिले न कि शरीर को नुकसान पहुँचे |
  • ज़हरीले भूजल से पीड़ित रहवासियों को गैस पीड़ितों के लिए बने अस्पतालों में मुफ्त इलाज दिया जाए |
  • गैस पीड़ित आबादी में जन्म, मृत्यु और जन्मजात विकृतियों के पंजीकरण के लिए विशेष व्यवस्था की जाए |
  • निरेह द्वारा गैस और ज़हरीले भूजल से पीड़ित इन्सानों के स्वास्थ्य पर जो शोध कार्य बन्द कर दिए गए हैं उन्हें चालू किया जाए |

3. रोज़गार और पेन्शन

  • गैस पीड़ितों और उनके बच्चों को रोज़गार दिलाने के लिए आवंटित करोड़ों रुपयों का इस्तेमाल कर जल्द से जल्द रोज़गार दिलाया जाए |
  • गैस पीड़ित विधवा पेन्शन से अकारण वंचित महिलाओं को तत्काल 1000 रुपए प्रति महिना  पेन्शन दिलाई जाए |

4. ज़हर सफाई

  • प्रदेश सरकार से लीज़ की शर्तों के मुताबिक़ डाव केमिकल कम्पनी को भोपाल के मिट्टी पानी की ज़हर सफाई करने के लिए मजबूर किया जाए |
  • प्रदेश सरकार स्मारक बनाने का काम तब तक रोक कर रखे जब तक कि ज़हर सफाई का काम पूरा नहीं हो जाता |
  • कार्बाइड कारखाने के पीछे ज़हरीले तालाब में सिंघाड़े उगाने और मछली पालने के खतरनाक काम पर स्थाई रोक लगाई जाए |
रशीदा बी

भोपाल गैस पीड़ित स्टेशनरी कर्मचारी संघ

9425688215

नवाब खाँ एवं शहजादी बी

भोपाल गैस पीड़ित महिला पुरुष संघर्ष मोर्चा

7441193309

रचना ढिंगरा,

भोपाल ग्रुप फॉर इन्फॉर्मेशन एंड एक्शन,

9826167369

नौशीन खान

डावकार्बाइड के खिलाफ बच्चे

 

Read the demands in English

Share this:

Facebooktwitterredditmail

Bhopal survivors congratulate the agitating farmers on the PM’s announcement on repealing black farm laws

Press Statement
19 November 2021

Organisations working among the survivors of the 84 Union Carbide disaster congratulated the agitating farmers on the Prime Minister’s announcement today to repeal the black agricultural laws. Rashida Bee of Bhopal Gas Peedit Mahila Stationary Karmchari Sangh said, “Modi government was imposing these black laws to benefit companies. This government talks about bringing Ram Raj but under its guise it wants to bring company Raj (rule) in the country. The farmers movement has given a big blow to the dream of Company Raj.

Continue reading Bhopal survivors congratulate the agitating farmers on the PM’s announcement on repealing black farm laws

Share this:

Facebooktwitterredditmail

भोपाल के पीड़ितों के स्वास्थ्य पर शोध करने के लिए बना राष्ट्रीय पर्यावरणीय स्वास्थ्य शोध संस्थान (NIREH) ने पीड़ितों के स्वास्थ्य पर पड़े नुकसान पर वैज्ञानिक अध्ययन क्यों बन्द कर दिए हैं?

प्रेस विज्ञप्ति
13 नवंबर 2021

37 दिन के अभियान के उनीसवे (19) दिन पर भोपाल में यूनियन कार्बाइड गैस हादसे के पीड़ितों ने भारत सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय से जवाब माँगा | उन्होंने पूछा, “2011 में यूनियन कार्बाइड के जहरों से पीड़ितों के स्वास्थ्य पर शोध करने के लिए बना राष्ट्रीय पर्यावरणीय स्वास्थ्य शोध संस्थान (NIREH) ने भोपाल के पीड़ितों के स्वास्थ्य पर पड़े नुकसान पर वैज्ञानिक अध्ययन क्यों बन्द कर दिए हैं ?”

Continue reading भोपाल के पीड़ितों के स्वास्थ्य पर शोध करने के लिए बना राष्ट्रीय पर्यावरणीय स्वास्थ्य शोध संस्थान (NIREH) ने पीड़ितों के स्वास्थ्य पर पड़े नुकसान पर वैज्ञानिक अध्ययन क्यों बन्द कर दिए हैं?

Share this:

Facebooktwitterredditmail

ICMR’s institute in Bhopal not only suppresses study on birth defects in children born to gas exposed parents but now decides to change focus away from gas victims

Press Release
13 November 2021

On the nineteenth day of their 37-day campaign, the survivors of the Union Carbide Disaster sought answers from the Government of India. They asked,” Why has the National Institute for Research in Environmental Health (NIREH) stopped carrying out research on the health impact of the Bhopal Gas Disaster & environmental contamination when it was created for this sole purpose in 2011?”

Continue reading ICMR’s institute in Bhopal not only suppresses study on birth defects in children born to gas exposed parents but now decides to change focus away from gas victims

Share this:

Facebooktwitterredditmail

Local Politicians Extend Support to Bhopal Survivor Organizations During 37 Day Campaign

On the 18th day of its 37 day campaign, Bhopal survivor organisations received support from 2 sitting MLA of the Indian National Congress Party. Mr. Arif Masood and Mr. PC Sharma both came to the dharna site and extended support to their long standing demands on compensation, clean up, medical care & rehabilitation & punishment to the guilty. Both also assured the survivors that they will raise their questions in the Winter session of MP assembly. They have also promised to write and seek time for appointment from the Prime Minister regarding the resolution of long standing demands of the survivors of the Union Carbide disaster.

Continue reading Local Politicians Extend Support to Bhopal Survivor Organizations During 37 Day Campaign

Share this:

Facebooktwitterredditmail